हाई ब्लड प्रेशर का इलाज के 7 सफल घरेलू घरेलू नुस्खे – High BP Treatment in Hindi

Blood Pressure Ka ilaj Kaise Kare : High और low bp एक ऐसी बीमारी बन चुकी है जो एक बार लग जाये तो इससे पीछा छुड़ाना मुश्किल हो जाता है| रक्तचाप क्या है – हमें जीवित रहने के लिए हमारे शरीर के प्रत्येक भाग में धमनियों द्धारा निरंतर पहुंचकर उसे पोषण देता रहता है| यह अत्यन्त आवश्यक कार्य हमारे ह्रदय द्धारा अनवरत सम्पन्न होता रहता है| वह पम्प की तरह खुलता दबता रहता है| और रक्त को रक्तवाहिनी धमनियों और नलिकाओं में आगे बढ़ता रहता है|

ह्रदय की, दबकर रक्त को धमनियों में आगे बढ़ाने की क्रिया को ‘रक्त चाप’ खून का दबाव वा ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) कहते है| यह एक सर्वथा स्वाभाविक शारीरिक क्रिया है जिसके बिना हम जीवित नहीं रह सकते| यह रक्त चाप निम्नलिखित परिस्थितियों में किसी भी व्यक्ति का स्वाभाविक रूप से बढ़ सकता है जिसे कोई रोक नहीं सकता इस समस्या का इलाज हम घर में इस्तेमाल होने वाली कुछ चीजों से आसानी से कर सकते है| इस लेख में हम high bp के उपचार के आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खे बता रहे है| आइये जाने home remedies for high blood pressure treatment in hindi.

उच्च रक्तचाप के लक्षण – High Blood Pressure Symptoms

चक्कर आना और सिर घूमना हाई ब्लड प्रेशर के आम लक्षण में से एक है| किसी भी काम में मन ना लगना भी high bp का निशानी है और शरीर में कमजोरी महसूस होना भी हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण है|

  1. छाती में दर्द|
  2. नजर कमजोर होना|
  3. नाक से खून निकलना|
  4. लगातार सिरदर्द|
  5. सांस लेने में दिक्कत|
ज़रूर पढ़ें -   अस्थमा का इलाज 10 आसान उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे इन हिन्दी

हाई ब्लड प्रेशर कम करने के घरेलू उपाय – High Blood Pressure ka ilaj

रक्तचाप के रोग में औषधियों का प्रयोग बहुत ही हानिकारक साबित होता है| अत: इस रोग में भूल से भी औषधि प्रयोग नहीं करना चाहिये| लिवरपुल के ह्रदय अस्पताल के ह्रदय-रोग विशेषज्ञ डा आई हैरिस ने अपना अनुभव लिखते हुये एक जगह लिखा है की औषधि द्धारा रक्तचाप की चिकित्सा करना व्यर्थ ही नहीं है अपितु इससे यथेष्ट अपकार भी होता है|

  1. इस रोग में अगर हो सके तो कुछ दिनों तक उपवास चलाया जाये, पर अगर यह सम्भव न हो तो 5 से 10 दिनों तक फलाहार या कच्ची और उबली तरकारियों पर ही रहे| यदि तरकारियों पर रहा जाये तो जलपान में गाजर, खीरे, आदि का एक गिलास-जूस लिया जाय, दोपहर का भोजन केवल सलाद का हो, तथा शाम को केवल उबली तरकारियां खाई जाये|
  2. यदि फलाहार पर रहा जाये तो दिन में केवल तीन बार फल खायें| एक समय केवल एक प्रकार का फल खाया जाये| इन दिनों प्रतिदिन शाम को गुनगुने पानी का एनीमा भी लेना चाहिये|
  3. सप्ताह में एक बार एप्सम साल्ट बाथ और दो बार पैरों का गरम स्नान भी लेना चाहिये|
  4. तरकारी या फल का क्रम चलाने के बाद दो सप्ताह तक फल और दूध पर रहना चाहिये| उसके बाद ही अन्न का उपयोग धीरे-धीरे करना चाहिये| अर्थातृ सुबह शाम फल दूध या तरकारी दही लेना चाहिये और केवल दोपहर के खाने में सप्राण अन्न के भोजन का उपयोग करना चाहिये|
  5. लहसुन का उपयोग रक्तचाप के रोग में बड़ा उपकारी होता है|
  6. बीज निकाले हुए बढ़िया आंवला, हर्रा और बहेड़ा को लेकर धूप में अलग-अलग सुखाले, और खरल में कूट लें| दस-दस ग्राम प्रतिदिन किसी मिट्टी के बर्तन में लगभग आधा किलो जल के साथ रात में भिगो दे| सुबह छानकर पी जाये| इससे बड़ा हुआ रक्तचाप शान्त हो जाता है|
  7. उच्च रक्तचाप से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए मूली रोज खाने की आदत बना लें| मूली में नीबू का रस अथवा नमक न मिलाएं, बल्कि नमक का उपयोग तो बिलकुल न करें|
ज़रूर पढ़ें -   पीरियड्स के दौरान क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए

हाई ब्लड प्रेशर करने के आयुर्वेदिक उपाय (Ayurvedic Treatment)

  1. High blood pressur ka upchar में देसी गाय का गोमूत्र बहुत ही लाभकारी होता है| ब्लड प्रेशर कम हो या ज्यादा हो सुबह खाली पेट आधा कप गाय का मूत्र के सेवन से ब्लड प्रेशर ठीक हो जाएगा| रोज गोमूत्र पिने से डायबिटीज, दमा और गठिया में आराम मिलता है|
  2. हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में करने के लिए सरपंगधा का चूरन दिन में दो-दो ग्राम लेने से ब्लड प्रेशर सामान्य हो जाता है|
  3. सरपंगधा दो ग्राम मिश्री में पीस कर और एक-एक ग्राम सूखा धनिया पानी के साथ सेवन करने से high bp normal ho जाता है|

लो ब्लड प्रेशर का इलाज के घरेलू नुस्खे

  1. 32 किशमिश किसी चीनी के कप में 150 ग्राम पानी में भिगो दें| बारह घंटे भीगने के बाद प्रात: एक-एक किशमिश को उठाकर खूब चबा-चबाकर (प्रत्येक किशमिश को बत्तीस बार चबाकर) खाने से निम्न रक्तचाप में बहुत लाभ होता है पूर्ण लाभ के लिए बत्तीस दिन खायेँ|
  2. निम्न रक्तचाप या ह्रदय-दुर्बलता के कारण मूर्छित हो जाने पर हरे आँवलें का रस और शहद बराबर-बराबर दो-दो चम्मच मिलाकर चाटने से होश आ जाता है और ह्रदय की कमजोरी दूर हो जाती है|
  3. निम्न रक्तचाप में बादाम का सेवन बड़ा उपयोगी है| नित्य 7 बादाम गिरी रात को पानी में भिगोकर प्रात: खूब बारीक पीसकर दूध के साथ प्रयोग करने से निम्न रक्तचाप कुछ दिनों में समान्य हो जाता है और दिल को भी ताकत मिलती है|
  4. निम्न रक्तचाप में तात्कालिप लाभ के लिए बोलना बन्द कर दें| चुपचाप बायीं करवट लेकर लेट जायें, नींद आने से ठीक हो जाएगा|
ज़रूर पढ़ें -   पुराने नजला-जुकाम का इलाज - Najla-Jukam ka ilaj

योगा से ब्लड प्रेशर कंट्रोल करे

  • योगा हमारे शरीर के रक्त संचार को समान्य करने में काफी लाभदायक होता है जिससे heart attack की शिकायत कम हो जाती है|
  • रोजाना प्राणायाम करने से और ध्यान लगाने से मानसिक तनाव कम होता है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है|
  • योगा में सुखासन और शवसन प्राणायाम में अनुलोम – विलोम करे.

हेल्लों दोस्तो हाई ब्लड प्रेशर का इलाज के 7 सफल घरेलू घरेलू नुस्खे – High BP Treatment in Hindi का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|