अलसी के फायदे और नुकसान – Flaxseed Benefits and Side Effects in Hindi

Alsi ke fayde aur nuksan in Hinid : इस दुनिया की सबसे पुरानी फाइबर फसलों में से एक है| वर्तमान समय में स्वस्थ रहने में अलसी बहुत फायदेमंद साबित हुआ है| अलसी का शरीर एव स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है जिससे स्वस्थ और निरोगी रहने में मदद मिलती है| छोटे से बीजों में सेहत के लिए फायदेमंद हजारों गुण होते है रक्त, पेट और दिल आदि सभी के सुचारु रूप से काम करने में अलसी बहुत फायदेमंद होती है|

यह प्राचीन मिस्त्र और चीन में खेती की गई है| एशिया में, इसमे हजारों वर्षों तक आयुर्वेदिक चिकित्सा में भूमिका निभाई है| सच कहे तो अलसी गुणों की खान है, लेकिन यह बात और है की लोग इस बात से अनजान है इसलिए आपको अलसी के फायदे और नुकसान जानना बहुत जरूरी है| आज, अलसी बीज, पाउडर, टैबलेट, कैप्सूल, तेल और आटे के रूप में उपलब्ध है यह कब्ज, मधुमेह, कैंसर, कोलेस्ट्रॉल और अन्य स्थितियों के लिए आहार अनुपूरक के रूप में सेवन किया जाता है| आज इस लेख में हम आपको बतायेंगे अलसी के फायदे और नुकसान के बारे में|

अलसी के फायदे

Alsi Ke Fayde in Hindi

अलसी के फायदे कैंसर के लिए : Flax seeds for Cancer in Hindi

अमेरिकी रिसर्च कहती है कि कैंसर के जोखिम को कम करने में अलसी के बीज प्रभावी है| यह साबित हुआ है कि अलसी के बीज प्रोस्टेट, स्टैन कैंसर, डिम्बग्रंथि और पेट के कैंसर से लड़ने में लाभकारी है| अलसी के बीज में लिगनन का स्टार ज्यादा होता है| जो हार्मोन चयापचय और ट्यूमर कोशिकाओं के प्रसार के लिए जिम्मेदार एंजाइमों को अवरुद्ध करके स्तन कैंसर के रक्षा प्रदान करता है इसके अलावा अलसी का तेल और अलसी के बीज का पाउडर दोनों हो अल्फा-लिनोलेनिक एसिड, ओमेगा-3 फैटी एसिड से लबालब है जो कैंसर में बहुत लाभदायक है|

पिसे हुए अलसी के बीज का सेवन दही में डालकर कर सकते है| अलसी के तेल का इस्तेमाल आप खाद्य समाग्री को पकाने के लिए कर सकते है|

अलसी के फायदे कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए : Flax seeds for Lowering Cholesterol in Hindi

अलसी का नियमित रूप से सेवन करने से खराब कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद मिलती है| रोजाना 100 मिलीग्राम अलसी के बीजों का सेवन करने से रक्त कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है| धुनलशील फाइबर पित्त को भी रोकता है, जो पित्ताशय की थैली में कोलेस्ट्रॉल से बना होता है| बुरे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए रोजाना 2 से 4 चम्मच पिसे हुए अलसी के बीजों का सेवन करें|

अलसी के बीज के फायदे ह्रदय के लिए : Flax seeds for Heart in hindi

अलसी के बीज कई ह्रदय-स्वास्थ्यवर्धक पोषक तत्वों से यक्त है जो आपको कई दिल की बीमारियों से दूर कर सकते है| यह मोनोअनचेरेटेड और पॉलीअनचेचुरेटेड वसा सहित ओमेगा-3 फैटी से भरपूर है जो दिल को स्वस्थ रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है|

ज़रूर पढ़ें -   बाबा रामदेव पतंजलि की दवाइयां आयुर्वेदिक उपचार ब्यूटी प्रोडक्ट

फाइबर का बहुत अच्छा स्त्रोत है असली : Flax seeds is A good source of fibber in hindi

अलसी के सबसे असाधारण लाभों में से एक यह है, इससे उच्च स्तर में म्यूसीजियन गम सामग्री है| म्यूसीज एक जेल वाला फाइबर है जो पानी में धुनलशील है म्यूसीज पेट में खाने को छोटी आंत में अधिक समय तक रोक सकता है| जिससे पोषक तत्वों का अवशोषण बढ़ जाता है| अलसी धमनियों में पट्टिका के निर्माण को कम कर, ह्रदय रोग और स्ट्रोक के खतरे को कम करने में मदद करती है| और यह धमनियों में सूजन को भी कम करती है| जिससे धमनियाँ अच्छे तरीके से काम करती है| स्वस्थ ह्रदय पाने के लिए आप अपने आहार में पिसे हुए अलसी के बीज को शामिल करें|

अलसी के फायदे वजन कम करने के लिए : Flax seeds helps in weight loss in hindi

अलसी के बीज में पाए जाने वाले तीन मुख्य तत्व-ओमेगा-3 एसिड, फाइबर और लिगनेन वजन कम करने में सहायक सिद्ध होते है| आपका काम ऐसा है की आपके काम के चक्कर में एक्सरसाइज करने का समय नहीं निकाल पाते, तो ऐसे में आपको अलसी का सेवन अपने रूटीन में शामिल कर लेना चाहिए| इससे आपको अपने वजन कम करने में बहुत मदद मिलेगी| खाना खाने से 1 घंटे पहले 1 चम्मच अलसी का अच्छी तरह से चबा-चबा कर सेवन करे और साथ में 1 गिलास पानी भी पिए, आधे घंटे के बाद 1 गिलास पानी फिर पिए| इससे आपको अपना पेट भरा हुआ महसूस होगा और आप खाना कम सेवन करेंगे|

अलसी के बीज उपयोग महिलाओं में हार्मोन मैनेज करने के लिए : Flax seeds manage harmone in female

अलसी में पाये जाने वाले फाइटो एस्ट्रोजन की वजह से यह महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद है रिसर्च करती है की अलसी के बीज रजोनिव्रत्त महिलाओं में रजोनिव्रत्ति के लक्षणों से लड़ने के लिए बहुत लाभदायक है| अलसी में लिगनन यौगिक में एस्ट्रोजेनिक गुण पाये जाते है जिसकी मदद से अत्यधिक गर्मी, अनियमित रक्तस्त्राव, मूड में उतार-चढ़ाव, कमर दर्द, बेचैनी और योनि के सूखेपन को कम किया जा सकता है|

  • रोजाना 1 चम्मच अलसी के बीज के पाउडर दिन में 2 से 3 बार सेवन करने से रजोनिव्रत्ति के लक्षणों को कम कर सकते है| यह राजस्वला महिलाओं द्वारा भी नियमित मासिक धर्म चक्र को बनाए रखने और प्रजनन क्षमता को बढ़ावा देने के लिए उपयोग किया जाता है|
ज़रूर पढ़ें -   सेब का सिरका के फायदे नुकसान और उपयोग का तरीका

अलसी के फायदे बनाये त्वचा सुंदर और चमकदार : Flax seeds for skin in hindi

अलसी और इसके तेल में समाविष्ट विटामिन बी और स्वस्थ वसा त्वचा के लिए फायदेमंद होते है| अलसी सूखेपन को कम करने में फायदेमंद है और एक्जिमा, मुहाँसे, सनबर्न, और त्वचा एलर्जी जैसी त्वचा-सम्बधित विकारों के लक्षणों में सुधार ला सकता है|

अलसी में मौजूद एंटी-इफ्लेमेटरी गुण त्वचा में जलन, चकत्ते, ऊतक सूजन और लालिमा को कम करने में सहायक है| लिग्नान और ओमेगा 3 फैटी एसिड के उच्च स्तर, आपके पेट को साफ रखते है और त्वचा रोगों को रोकते है| ओमेगा 3 फैटी एसिड त्वचा कोशिकाओं के स्वस्थ विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है| त्वचा के घावों के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है|

अगर आप चाहते है की आपकी स्किन स्वस्थ, चमकदार और चिकनी बनी रहे, तो रोजाना 1 से 2 चम्मच अलसी के बीज का सेवन करे| इसमें पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण त्वचा में कोलेजन प्रोडक्शन और नई सेल्स के बनने को बढ़ावा देते हैं जिससे त्वचा पर उम्र के साथ होने वाले बदलाव कम दिखाई देते हैं|

अलसी के तेल की मालिश से करें बालों की समस्याओं का समाधान – Flax seed for Hair problem in hindi

अलसी में पाये जाने वाला ओमेगा 3 फैटी एसिड की अधिक मात्रा बालों के लोच में व्रद्धि करता है| ये ना सिर्फ आपके बालों की गुणवत्ता को बढ़ाकर उनके स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करता है बल्कि सिर की त्वचा का पोषण भी देता है| अलसी का नियमित इस्तेमाल और सेवन बालों की समस्याओं को कम करने में मदद करता है जैसे : खुजली, डैंड्रफ और बालों का टूटना|

अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरे होते है जो बालों के रोम को पोषित कर उन्हें मजबूत और स्वस्थ बनाते है| अलसी के बीज में विटामिन ई बालों की जड़ों और सिर की त्वचा को पोषण प्रदान करते है और झड़ते हुए बालों और गंजेपन को रोकने में मदद करते है यह सोरायसिस (Psoriasis) से संबंधित बालों के झड़ने से उबरने में भी लोगों की मदद कर सकते हैं|

अलसी के औषधीय गुण मधुमेह के लिए : Flax seeds for Diabetes in hindi

अलसी के रोजाना सेवन से टाइप 2 मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर में सुधार लाया जा सकता है| रिसर्च कहती है की जो लोग 8 हफ्ते लगातार अलसी के बीज के सप्लीमेंट का सेवन करते है उनके  रक्त-शर्करा के स्तर पर सकरात्मक प्रभाव पड़ता है|

इसके अलावा, अलसी के बीजों में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड के साथ ही साथ प्रोटीन और फाइबर भी होता है जो ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में सक्षम है|

किसी भी व्यक्ति को डायबिटीज है तो अलसी की 25 ग्राम मात्रा को अपने आहार में जोड़ें| आप चाहे तो इस मात्रा को कुछ भागों में बाँट सकते है| और फिर दिनभर में किसी भी तरह से इसका सेवन कर सकते है|

ज़रूर पढ़ें -   तेजी से मोटापा कम करने के 5 आसान उपाय इन हिन्दी - Weight Loss Tips in Hindi

अलसी का सेवन जोड़ों के दर्द से दिलाये राहत : Flax seeds for joint pain in hindi

अलसी का सेवन करने से जोड़ों की हर तकलीफ दूर हो जाती है| इसके सेवन से खून पतला हो जाता है, जिसके कारण पैरों में खून का प्रेशर अच्छे से होता है और दर्द की समस्या दूर हो जाती है| जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए सरसों के तेल के साथ गर्म करें और ठंडा होने के बाद जोड़ों पर लगा लें, फाइदा होगा|

अलसी के नुकसान

Flaxseed Side Effects in Hindi

  • अलसी के बीज का सेवन ज्यादा करने से गैस की समस्या हो जाती है|
  • अलसी का ज्यादा मात्रा में सेवन एलर्जिक रिएक्शन की वजह बन सकती है| इसकी वजह से उल्टी, मितली आना और पेट में दर्द जैसी समस्या भी हो सकती है, इसके सेवन से लो ब्लड प्रेशर और सांस लेने में शिकायत हो सकती है|
  • अलसी के बीज का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए क्योंकि यह आंतों में रुकावट पैदा करता है|
  • जो लोग लो ब्लड प्रेशर से पीड़ित व्यक्ति है उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए| क्योंकि इसके सेवन से उनका ब्लड प्रेशर और लो हो सकता है|
  • अलसी में साइनाइड यौगिकों थोड़ी मात्रा में होता है जिससे आपके शरीर पर न्यूरोटॉक्सिक का असर पड़ सकता है| इसलिए इसका अधिक मात्रा में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए|
  • अलसी में फाइबर अधिक मात्रा में पाये जाने की वजह से यह पेट में ऐंठन और गैस जैसी समस्या होती है| कई बार इसे बिना तरल पदार्थ के लेने से कब्ज की भी समस्या हो जाती है|
  • स्तनपान और गर्भवती महिलाओं को अलसी के बीज का सेवन करने से बचना चाहिए|
  • मधुमेह की दवा के साथ ही साथ अगर आप अलसी के बीज का सेवन करते है तो अपने ब्लड में शर्करा की जांच करते रहे|
  • अलसी के बीज में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है, स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए अलसी के बीज का सेवन करते वख्त अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए अन्यथा यह जठरात्र पर दुष्प्रभाव डाल सकते है|

हेल्लों दोस्तों अलसी के फायदे और नुकसान – Flaxseed Benefits and Side Effects in Hindi का यह लेख आप को कैसा लगा हमें कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

Leave a Comment