गंजे सिर में नए बाल उगाने के 5 उपाय : गंजेपन का इलाज

सिर के प्रत्येक बाल की आयु अधिक से अधिक 6 वर्ष की होती है| 6 वर्ष के भीतर ही भीतर सिर के सभी बाल बारी बारी से कमजोर होकर झड़ जाते है, और उनके स्थान पर धीरे-धीरे नये बाल उग आते है| यही क्रम जीवन भर चलता रहता है| पर जब अस्वस्थता के कारण सिर के बाल बहुत जल्दी-जल्दी और एक साथ अधिक संख्या में झड़ने लगते है तो या तो उनकी जगह फिर नये बाल उगते ही नहीं या अत्यधिक पतले-पतले उगते है

किसी-किसी दशा में जब सिर के समस्त केश-कोष मृतप्राय: हो जाते है और उनकी कोशोत्पादन की क्षमता एक साथ लुप्त हो जाती है तो सारा का सारा सिर गंजा और सफाचट हो जाता है गंजा होने के बहुत से लक्षण होते है जैसे की बालों की देखभाल न रखना अलग-अलग तरीके के शैम्पू इस्तेमाल करना तरहा-तरहा के कंडीशनर लगाना बालों का स्प्रे इस्तेमाल करना जो बालों की जड़ों को कमजोर और बेकार कर देते है यही गंजापन के लक्षण है  इस लिए आज हम गंजापन के कारण और उनके इलाज के बारे में बात करेंगे तो चलिए जानते है की गंजापन के कारण और इलाज क्या है|

गंजापन के कारण – Due to baldness

समस्त शरीर का दोषयुन्तक होना अस्वाभाविक रूप से तेजी के साथ सिर के बालों के झड़ने का कारण है| गर्मी, रन्तकल्पता तथा भयानक ज्वर आदि रोगों के फलस्वरूप सिर के चर्म के निष्क्रिय हो जाने से सिर के बाल अक्सर झड़ जाते है| सिर में किसी चर्म रोग के पुराना पड़ने पर भी बहुदा सिर के बाल झड़ने लगते है|

ज़रूर पढ़ें -   सर्दी खांसी और जुकाम का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और दवा

जो लोग अधिक समय तक कस-कर साफा बांधे रहते है या टोपी पहने रहते है| उनके सिर में रन्तक प्रवाह में व्याघात उत्पन्न हो जाता है जिससे बालों को उचित मात्रा में खुराक नहीं मिल पाति| फलत: वे कमजोर होकर गिरने लगते है| अशान्ति, चिन्ता, भय तथा क्रोधादि मानसिक उद्रेगों के कारण भी सिर के बाल झाड़ते और पकते देखे गए है|

गंजापन का इलाज – Treatment of baldness 

जिन कारणों से सिर के बाल कमजोर होकर झड़ने लगते है, सर्वप्रथम उन करणों को दूर कर देना चाहिए| यह ध्यान रखना चाहिये कि सिर की चमड़ी पर मैल न जमने पाये और उन पर उगे बालों को अधिकाधिक साफ हवा मिलती रहे, सफाई के ख्याल से सिर को धोने के लिए बेसन, दही, काली मिट्टी या रीठा ठीक रहता है|

गंजापन आरम्भ होते ही प्रतिदिन चार बार सिर के बालों का हरी बोतल के सूर्य्यतप्त जल में भिगोकर दोनों हाथों की अंगुलियों से लगभग 15-20 मिनट तक बालों की जड़ों की मालिश करनी चाहिये, साथ ही बालों हो हल्के ऊपरी तरफ खीचना भी चाहिये| खींचने से यदि कुछ कमजोर उखड़ जायें तो चिन्ता नहीं करना चाहिये| क्योंकि वे दर या सबेर उखड़ने वाले ही होते है| ऐसे बालों का शीघ्रातिशीघ्र गिर जाना ही ठीक होता है, वरना वे अपने पास वाले बालों को भी कमजोर कर देते है|

गंजेपन का इलाज और बाल उगाने के उपाय

रात में सोने से पहले नीली बोतल के सूर्यतप्त नारियल के तेल में कागजी नींबू का रस मिलाकर उससे बालों की जड़ों की हल्की मालिश करनी चाहिये| प्रतिदिन साधारण स्नान के वन्तक नीबू के आधे टुकड़े से सिर को रगड़ना भी बड़ा लाभ करता है|

ज़रूर पढ़ें -   हाई यूरिक एसिड का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

भोजन के बाद सिर के बालों पर कंघी इस प्रकार फेरे कि उसके दांत सिर कि चमड़ी को स्पर्श करे, उसके बाद बालों पर सख्त ब्रुश का प्रयोग करना चाहिये| गंजे सिर वाले को सिवा शुद्ध सरसों या नारियल के तेल के और कोई तेल प्रयोग नहीं करना चाहिये| इस रोग में सर्वगासन लाभप्रद है|

Naye Baal Ugane Ganjapan Ka Ilaj Oil in Hindi

जिस के सिर पर एक भी बाल न हो उसे उपयुंन्तक के साथ-साथ दिन में दो बार कटि स्नान और गर्दन की कसरतें भी करनी चाहिये साथ ही इस बात का ध्यान रखना चाहिये कि उसे कोष्टबद्धता का रोग कभी न होने पाये|ऐसे व्यक्ति को सप्राण एव सात्विक खान-पान पर रह कर सादे तौर पर जीवन यापन करना चाहिए|

ऐसा रोगी दिन में एक बार यदि अपने गंजे सिर को 3-3 मिनट की बारी से सहने योग्य गरम जल और ठंडे जल से धोया करे, और उसके बाद सिर के ऊपर निला प्रकाश 15 मिनट तक डाले तो लाभ अच्छा होता है| उपयुक्त धोने वाला गर्म और ठंडा जल यदि नीली बोतल का सूर्यतप्त हो तो बहुत लाभदायक होता है| सिर पर मालिश के लिए नीली बोतल का नारियल तेल का ही प्रयोग करना चाहिए|

हेल्लो दोस्तों गंजापन का इलाज आप को यह पोस्ट कैसी लगी हमे कमेन्ट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करे इस पोस्ट से जुड़ी जानकारी आप के पास है तो हमारे साथ सांझा करे|

Leave a Comment