खांसी का इलाज 10 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे – khansi ka ilaj in hindi

Khansi Ka ilaj in Hindi : खांसी का इलाज इन हिन्दी सिर दर्द आदि की भांति भी स्वत: कोई रोग नहीं है अपितु शरीर शरीर स्थित रोग का एक लक्षण है यह श्वास नाली के द्धार से हवा के झटके के साथ निकलने की एक आवाज़ होती है| खांसी उत्पन्न करके प्रकृति गले, कंठ नाली अथवा वायु प्रणाली में अटके कफ आदि को बाहर निकालने के लिए जोरदार कोशिश करती है| खांसी कई तरह की होती है| जिस खांसी के साथ कफ निकलता है उसे तर खांसी कहते है

जिस खांसी के साथ कफ नहीं निकलता है उसे सूखी खांसी कहते है अगर खांसी लगातार आती रहे और खाँसते समय सीने में दर्द मालूम हो तथा एक सप्ताह से अधिक टिके तो समझना चाहिए की दमा रोग का आरम्भ हो रहा है| स्वाभाविक दौर्बल्य के कारण भीं प्रकार की खांसी आती है| एक प्रकार की और खांसी होती है जो मनुष्य की मानसिक निर्बलता के कारण बिना वजह खांसने की आदत पद जाने की वजह से हुआ करती है| खांसी को दो और प्रकार होते है-एक नई खांसी और दूसरी पुरानी खांसी|

नई खांसी जब उचित चिकित्सा के अभाव में जल्दी अच्छी नहीं होती तो उसके परिणाम स्वरूप श्वास नलिकाओं की भीतरी झिल्ली सूज उठती है और तब उसे पुरानी खांसी कहते है| बड़ों की पुरानी खांसी हो या बच्चों की खांसी हो आयुर्वेदिक नुस्खे से खांसी का उपचार घर पर बिना दवा के किया जा सकता है| आज इस लेख में हम जानेंगे घरेलू उपाय और देसी नुस्खे अपना कर सूखी और कफ वाली खांसी दूर करने के उपाय कैसे करे, natural ayurvedic treatment tips and home remedies for cough (khansi) in hindi.

ज़रूर पढ़ें -   घर पर प्रेग्नेंसी टेस्ट कब और कैसे करें - Pregnancy Test at Home in hindi

खांसी होने के कारण : Causes of Cough 

  • फेफड़ों में कैंसर, गले में कैंसर होना|
  • कई गंभीर रोग से प्रभावित होना जैसे की अस्थमा, टी बी आदि|
  • धूल-मिट्टी, प्रदूषण|
  • आइसक्रीम या कोलड्रिंक के सेवन से|
  • वायरल इफेक्शन सर्दी, फ्लू|

खांसी का इलाज के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

Khansi Ka ilaj Gharelu Upay aur Nuskhe in Hindi

  1. 3-4 लौंग तवे पर भून लें और फूल जाने पर पीसकर गुनगुने दूध में डालें| यह दूध रात को सोते समय पीने से खांसी ठीक हो जाती है|
  2. एक चुटकी कालीमिर्च का चूर्ण एक चम्मच शहद में मिलाकर दिन में 3-4 बार सेवन करने से भी खांसी मिट जाती है|
  3. नई खांसी में सर्वप्रथम 2 दिन का उपवास या रसाहार करके कब्ज टूटने तक गुनगुने पानी का एनिमा लें| फिर दो-तीन दिन फलाहार या उबली साग-सब्जी पर रहें|
  4. जब खांसी के साथ ज्वर भी रहे तो पेडू पेडू पर गीली मिट्टी की पट्टी रात भर के लिये लगाएं| परन्तु जब ज्वर न रहे तो फिर मिट्टी की पट्टी के स्थान पर कमर की भीगी पट्टी लगाएं|
  5. नींबू का रस मिला जल प्रचुर मात्रा में पिये| बस इतने ही उपचार से नई खांसी अवश्य चली जायेगी|
  6. पीली बोतल के सूर्य तप्त जल की आधी-आधी छटांक की 6 ख़ुराकें रोज पीने से नई खांसी कुछ ही दिनों में जरूरत चली जाती है|
  7. पुरानी खांसी में 3 दिनों तक रसाहार पर रहकर 10 दिनों तक फल पर रहे और कब्ज टूटने तक एनिमा ले| फिर रोटी भाजी पर रहे| सुबह डेढ़ घन्टा तक छाती और कन्धों पर भीगी पट्टी बांधने के बाद 10 मिनट तक उदर-स्नान करे| दोपहर को सिर पर भीगा गमछा रखकर और मुंह बन्द करके नाक के नथुनों से भाप खींचे फिर ठंडे पानी से भीगी तौलिया से सारा शरीर पौछें| उसके बाद पुन: 10 मिनट तक कटि-स्नान करे|
  8. रात को छाती को बारी-बारी से गरम ठंडी सेंक देने के बाद एक घंटे के लिये छाती और कन्धों पर भीगी पट्टी पुन: बांधे|
  9. नींबू का रस मिला हुआ जल प्रचुरता के साथ पिये, गहरी श्वास लेने की कसरतें करे, प्रात: सांय सव्च्छ वायु में टहले, सादा और सुपाच्य भोजन ग्रहण करे तथा साधारण स्नान के पूर्व और पश्चात शुष्क घर्षण स्नान जरूर करे|
  10. लहसुन के रस को रुई में डालकर सूंघना तथा तीन चाय के चम्मच भर प्याज के अर्क में दो चम्मच शुद्ध शहद मिला आर चाटना इस रोग में बड़ा उपकारी सिद्ध होता है|
  11. नारंगी रंग की बोतल के सूर्य तप्त जल की आधी-आधी छटांक की 6 ख़ुराकें रोज पीना पुरानी तर खांसी को तथा गहरी नीली बोतल की उतनी ही खुराक प्रति दिन पीना पुरानी सूखी खांसी को जल्दी-ठीक कर देता है|
ज़रूर पढ़ें -   खराब पाचन शक्ति ठीक करने के 5 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

गले के रोग रामबाण देसी इलाज : Ayurvedic treatment for khansi in hindi

गले के रोग का उपाय करने मे कच्ची हल्दी का आयुर्वेदिक इलाज है| गले से जुड़ी कोई भी समस्या हो जैसे की गले मे खराश, छाले, सूजन या गले मे इंफेक्शन हुआ हो,टॉन्सिल्स, खांसी, दर्द हुआ हो हल्दी का रस आधा चम्मच ले ओर मुंह खोल कर सीधे गले में डाले ओर कुछ देर चुप बैठे|

इस आयुर्वेदिक दवा की एक ही खुराक में आपको आराम मिलने लेगेगा| पुरानी काली ख़ासी हो, कफ वाली ख़ासी हो या फिर सुखी खांसी हो इस उपाय को करने से आपको कुछ देर बाद आराम महसूस होने लगेगा|

कफ वाली खांसी दूर करने के उपाय इन हिंदी

  1. गरम दूध का सेवन करने से कफ वाली खांसी में राहत मितली है|
  2. अदरक का एक टुकड़ा मुंह में रख कर चूसने से कफ बाहर निकल जाता है| और गला साफ हो जाता है|
  3. छाती में जमा कफ साफ करने के लिए सूखा आंवला और मुलेठी एक कारगर उपाय है| सूखा आंवला और मुलेठी को पीस कर चूर्ण बना ले और मिलाकर रख ले इस चूर्ण का 1 चम्मच सुबह शाम खाली पेट सेवन करे| अगर आपके गले मे छाले हो रहे हो तो इस चूर्ण मे बराबर मात्रा मे मिश्री मिला ले| अब 250 ग्राम दूध के साथ 6 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से गले के छाले जल्दी ठीक होने लेगेगे|

खांसी के उपचार में परहेज 

  • कुछ भी गरम चीज का सेवन करने के बाद तुरंत ठंडी चीज का सेवन न करें|
  • फ्रीज़ में रखी चीजे खाने पिने से बचे जैसे की ठंडा पानी, कोल्ड ड्रिंक|
  • चावल, केला, दही के सेवन न करें|
  • मसालेदार और तला भुना खाने से बचे|
ज़रूर पढ़ें -   भूख बढ़ाने के 10 असरदार घरेलू उपाय उपचार और आयुर्वेदिक नुस्खे

हेल्लों दोस्तों खांसी का इलाज 10 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे – khansi ka ilaj in hindi का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|