लकवा का उपचार के 10 घरेलू तरीके और आयुर्वेदिक देसी उपाय

Lakwa ka upchar gharelu upay aur ayurvedic nuskhe : लकवा को पैरालिसिस अटैक या स्ट्रोक भी कहते है| लकवे की बीमारी आजकल ज्यादा सुनने को मिलती है| किसी व्यक्ति पूरे शरीर पैरालिसिस का शिकार हो जाता है तो किसी का आधा शरीर इस बीमारी के चपेट में आ जाती है लकवा से ग्रस्त व्यक्ति अपनी एक या ज्यादा मांसपेशियों को हिलाने में असमर्थ हो जाता है|

लकवा का उपचार के 10 घरेलू तरीके और आयुर्वेदिक देसी उपाय

मांसपेशियों से किसी प्रकार की समस्या या अन्य बाधा कभी लकवा का कारण नहीं बनती, बल्कि मस्तिष्क से अंगों में संदेश पहुंचाने वाली तंत्रिकाओं और रीढ़ की हड्डी प्रभावित होने की स्थिति में लकवा हो जाता है| इसमें व्यक्ति चलने-फिरने और अंग को महसूस करने की क्षमता खो देता है| इसके अलावा मुंह टेढ़ा हो जाता है और बोलने पर मुंह से आवाज भी नहीं निकलती| वैसे देखा जाए तो लकवा किसी भी उम्र में किसी भी व्यक्ति या महिला को हो सकता है| लेकिन ज्यादातर यह बढ़ी उम्र के लोगों को होता है|

इस बीमारी से उबरने में काफी समय लग सकता है| जब हमारे शरीर की मांसपेशियां या कोई अंग काम करना बंद कर दे तो उस अवस्था को पक्षाघात, फालीज और लकवा कहते है| अगर पैरालिसिस अटैक आधे शरीर पर हुआ हो तो उसे अधरंग कहते है जिसमें शरीर का आधा हिस्सा काम करना बंद कर देता है| इस लेख में हम जानेंगे लकवा का उपचार घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे अपना कर कैसे करे, paralysis attack treatment in hindi.

लकवा होने के कारण : Paralysis Causes

लकवा होने का सबसे बड़े कारण होते है जो हम आपको नीचे बताने जा रहे है|

  • बेड कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना|
  • खून का थक्का जमना|
  • हाई ब्लड प्रेशर|
  • स्ट्रोक होना|
ज़रूर पढ़ें -   खांसी का इलाज 10 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे - khansi ka ilaj in hindi

लकवा के लक्षण क्या है : Paralysis Symptoms

  • हाथ पैर को उठाने में परेशानी आना, शरीर में अकड़न होना, शरीर का कोई अंग बार-बार सुन होना|
  • किसी चीज को दो बार दिखाना या फिर धुंधला दिखाई देना|
  • बात करते वख्त तुतलाना, अटकना या फिर बोलने में कोई दिक्कत होना|
  • बेहोश होना, सिर दर्द होना या फिर चक्कर आना|

लकवा का उपचार घरेलू उपाय और देसी तरीके से कैसे करे

Lakwa Ka Upchar Ke Gharelu Upay aur Desi Tarike

सरसों का तेल, काली उरड़ की दाल, अदरक और कपूर

लकवे की बीमारी और गठिया का रोग ठीक करने के लिए 50 ग्राम सरसों के तेल में 10 ग्राम काली उरड़ की दाल और 5 ग्राम बारीक पीसी हुई अदरक डाल कर 7 से 8 मिनट तक गरम करे| और इसमें पिसा हुआ कपूर का 2 ग्राम चूरा डाले| रोजाना इस तेल के  इस्तेमाल से लकवे और गठिया के उपचार में फाइदा मिलता है| इस तेल से जोड़ों की मालिश करने से दर्द ठीक होता है|

लहसुन, शहद, दूध

5 कलियाँ लहसुन की पीस कर इसमें 2 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करे| आप को 1 महीने में आराम मिलने लगेगा| इसके अलावा 5 कलियाँ लहसुन की दूध में उबाल कर इसका सेवन करे| इस घरेलू उपाय से लकवा प्रभावित अंग में जान आने लगती है और ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है|

उड़दऔर सौंठ

लकवे में सुधार लाने के लिए उड़द और सौंठ को उबाल लें और ठंडा होने पर इसका पानी छान कर सेवन करे| रोजाना इस घरेलू उपाय को करने से लाभ मिलता है|

तेल, काली मिर्च

250 ग्राम तेल में 50 ग्राम काली मिर्च में मिलाकर 8 से 10 मिनट तक गैस पर पकाए| इस तेल को हल्का गरम करके लकवे वाली जगह पर पलता-पलता लेप लगाये|

ज़रूर पढ़ें -   पीरियड्स जल्दी आने की दवा और उपाय - Periods Aane ki Tablet in Hindi
दूध और छुहारा

लकवा से राहत पाने के लिए दूध में छुहारा भिगो कर सेवन करे| और ध्यान रखे एक बार में 4 छुहारे से ज्यादा नहीं खाना है|

तांबे के बर्तन में पानी

रात को सोने से पहले तांबे के बर्तन में 1 लीटर पानी भर कर रख दें और चाँदी का एक सिक्का उस पानी में डाल दें| अगली सुबह खाली पेट उस पानी को पिए और आधे घंटे तक कुछ भी चीज खाए या पी नहीं| इसका इस्तेमाल करने से लकवा से रिकवर होने से बहुत फायदा करता है|

लहसुन

लकवा ठीक करने के लिए लहसुन का सेवन बहुत कारगर है| लहसुन से इलाज करने के लिए पहले दिन लहसुन की 1 कली निगल लें, और रोज एक एक कली बढ़ाये और इसे पानी के साथ सेवन करे| ऐसी 21 वे दिन लहसुन की पूरी 21 कलियां पानी के साथ निगलनी है| 21 दिनों के बाद रोजाना 1 -1 कली कम करके निगले| इस घरेलू नुस्खे से लकवा जैसी बीमारी से जल्दी छुटकारा मिलता है|

तेल की मालिश

पैरालिसिस के उपचार करने के लिए मालिश करने से बहुत लाभ मिलता है| लेकिन किसी भी तरह की मालिश करने से पहले किसी आयुर्वेदिक वैद या फिर किसी डॉक्टर से जरूर सलाह लें| कलौंजी का तेल हल्का गरम करके हल्के हाथ से मालिश करे और साथ ही साथ दिन में 2 से 3 बार एक चम्मच तेल सेवन भी करे| इस घरेलू नुस्खे से आप को 1 महीने में फरक दिखने लगेगा|

खजूर का गुदा

लकवे से प्रभावित अंग पर खजूर का गुदा मलने से आराम मिलता है|

करेला

पैरालिसिस से पीड़ित रोगी को करेला अधिक खाना चाहिए, लकवे में करेले का सेवन करने से लाभ मिलता है| लकवे से पीड़ित व्यक्ति को किसी भी नशीली चीज का सेवन नहीं करना चाहिए और खाने में मछ्ली, तेल, घी, माँस का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए|

ज़रूर पढ़ें -   गले और छाती में जमा कफ (बलगम) का इलाज 5 आसान उपाय

लकवे का इलाज के आयुर्वेदिक नुस्खे

  1. लकवे से ग्रस्त अंग पर काली उड़द की दाल को खाने के तेल में डालकर गरम करके मालिश करे, इससे बहुत फायदा होता है|
  2. गाय का देसी घी रोजाना सुबह शाम 2 बूंदें नाक में डालने से लकवे में आराम मिलता है| और साथ ही साथ इससे बालों का झड़ना भी बंद होता है और कोमा में गए हुए व्यक्ति की चेतना लौटने लगती है| और दिमाग भी तेज होता है| इस घरेलू देसी नुस्खे का लगातार इस्तेमाल करने से माइग्रेन की बीमारी में रामबाण इलाज का काम करता है|
  3. लकवे का अटैक होने पर तुरंत रोगी को तिल का तेल 50 ग्राम हल्का गुनगुना करके पिला दें| और साथ में थोड़ी लहसुन की कलियां चबा-चबा कर खाने को दें| अटैक पड़ते ही लकवा प्रभावित अंग और सिर पर गरम सेंक करें|

अगर आप लकवे का उपचार करने के लिए किसी भी तरह की आयुर्वेदिक दवा लेना चाहते है तो किसी पंसारी की दुकान या Baba Ramdev पतंजलि स्टोर से ले सकते है और अगर आप होम्योपैथिक दवा लेना चाहते है तो पहले होम्योपैथिक डॉक्टर से मिले|

हेल्लों दोस्तों लकवा का उपचार के 10 घरेलू तरीके और आयुर्वेदिक देसी उपाय का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

Leave a Comment