पथरी की रामबाण दवा आयुर्वेदिक इलाज और 5 आसान उपाय

Pathri ki dawa ka name aur gharelu ilaj in hindi : देश के लाखों लोग पथरी की बीमारी से परेशान है खाने पीने का गलत तरीका और अनियमित जीवन शैली पथरी की समस्या आजकल बढ़ती जा रही है| ज्यादातर लोग पित की पथरी (gallbladder stone) गुर्दे की पथरी (Kidney stone) और यूरिनरी स्टोन की शिकायत करते है|

शरीर में पथरी किसी भी भाग में हो सकती है पथरी का आकार हर इंसान के शरीर में अलग-अलग हो सकता है अगर पथरी का आकार छोटा है तो वह पेशाब के रास्ते से बाहर निकल जाती है अगर पथरी बड़े आकार की हो तो वह पेशाब के रास्ते से बाहर नहीं निकल पाती| इसकी वजह से उन्हें काफी दर्द और परेशानी का सामना करना पड़ता है|

बहुत से लोग पथरी के दर्द से बचने के लिए और पथरी निकालने के लिए अंग्रेजी दवा का सहारा लेते है तो कुछ लोग पथरी का ऑपरेशन करवाते है| किडनी की पथरी हो या पित्त की थेली की पथरी हो तो आप बिना दवा के घरेलू नुस्खे, देसी आयुर्वेदिक दवा और होम्योपैथिक उपचार से घर पर ही उपाय कर सकते है| इस लेख में हम पथरी का इलाज के बारे में जानेगे, pathri ki dawa gharelu ilaj desi nuskhe aur ayurvedic upchar in hindi.

पथरी होने के कारण : Causes

अप्राकृतिक आहार-विहार, आहार में चिकनाई वाले पदार्थ की अतिशयता, औषधियों का अधिक सेवन, तथा मेहनत की कमी आदि के कारण जब शरीर रोगी होने लगता है| तब सबसे पहले यक्रत रोगी होता है क्योंकि पचाने के काम में यक्रत का बड़ा हाथ होता है| नतीजा यह होता है कि रोगी यक्रत में तैयार हुआ पित्त, विकार युक्त हो जाता है| जो पित्ताशय में पहुंचकर उसमें सूजन और प्रदाह उत्पन्न करता है जिसके फलस्वरूप पित्ताशय की श्लेष्मिक-कला के रुग्ण होने पर उसमें स्थित दूषित पित्त और वायु कफ वायु से सूख कर पत्थर की तरह कठोर हो जाते हैं जिसे पथरी कहते है| छोटी से छोटी पथरी सरसों के दाने के बराबर होती है और बड़ी से बड़ी अन्डे के बराबर| एक के बजाय कई पथरियाँ भी बन सकती है|

पथरी रोग के लक्षण : Symptoms

  1. शरीर में कहीं भी तेज का दर्द होना यह पथरी का सबसे पहला लक्षण होता है|
  2. पेशाब करते समय बहुत तेज दर्द होना|
  3. पथरी होने पर कुछ लोगों को पेशाब बार-बार आता है और कुछ लोगों को पेशाब रुक-रुक कर आता है|
  4. लगातार उल्टी होना और दस्त होना|
  5. पेट में भारीपन महसूस होना खाना पचने में दिक्कत होना पेट में तेज दर्द होता है और उल्टी की शिकायत भी होती है|
  6. पेशाब में जलन और दर्द महसूस होना और पेशाब में बदबू आना|
  7. पेशाब में इन्फेक्शन होना कपकपी होना और बुखार आना|
ज़रूर पढ़ें -   चेहरे से तिल और मस्से हटाने के 10 आसान तरीके और घरेलू उपाय

पथरी की दवा और घरेलू इलाज

Pathri Ki Dawa aur Gharelu ilaj in Hindi

कुछ लोगों के पथरी ऐसी जगह पर होती है की उन्हें अपना ऑपरेशन करवाना पड़ता है क्योंकि उनके पास कोई और रास्ता ही नहीं होता ऐसे में डॉक्टर से मिले सलाह ले और जरूरी ट्रीटमेंट करे| अगर आप अपना इलाज पथरी की देसी दवाई, घरेलू नुस्खे, होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक उपचार से करना चाहते है तो इस लेख को ध्यान से पूरा पढे और उपाय करें|

पथरी के दर्द का इलाज और उपाय

पथरी का दर्द जब किसी व्यक्ति को होता है तो बहुत तेज होता है और बर्दाश्त भी नहीं होता| पथरी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए बहुत से लोग दवा लेते है| अगर आप अपना पथरी के दर्द का जल्दी इलाज करना चाहते है तो आप कुछ आसान घरेलू नुस्ख अपना सकते है|

  1. नींबू में सिट्रिक एसिड की मात्रा पाई जाती है| एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़ कर इसमें थोड़ा शहद मिला लें और इसका सेवन करे पथरी के दर्द में नींबू पानी का सेवन करने से जल्दी आराम मिलता है|
  2. रात को सोने से पहले 2 गिलास पानी में 2 चम्मच सौफ और सूखा धनिया और मिश्री भिगो कर रख दें| सुबह इस पानी को खाली पेट सेवन करे इस उपाय को करने से आप को जल्द ही पथरी से राहत मिलेगी|
  3. अजवाइन पानी में डालकर उबाल लें फिर उसे छानकर पिए| यह उपाय करने से पथरी के दर्द छुटकारा मिलता है|
  4. पथरी के दर्द से राहत पाने के लिए केले का सेवन रोज करें| केले में जो पोषक तत्व होते है वो पथरी को बढने से रोकते है|
  5. एलोवेरा का जूस रोजाना पीने से पथरी का दर्द दूर होता है पथरी के दर्द का तुरंत इलाज करने में एलोवेरा बहुत फायदेमंद होता है|
  6. पथरी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए प्याज का रस काफी मददगार है| प्याज के रस को शक्कर के साथ पिए क्योंकि प्याज में पाए जाने वाले पोटैशियम और विटामिन-बी होते है जो शरीर में पथरी को बढ़ने से रोकते है|

किडनी की पथरी का इलाज : Kidney Stone Treatment in Hindi

  1. 50 ग्राम प्याज को पीकर अर्क निकालें और प्रात: बिना कुछ खाए-पिए ही सेवन करें| इससे पथरी कट जाएगी तथा मूत्र के माध्यम से निकल जाएगी|
  2. मरीज को खूब शहद खाने की आदत डालनी चाहिए| अगर पचाने की समस्या हो तो जितना संभव हो, उतना खाएं| वैसे हर रोज दो बार कम से कम 25 ग्राम शहद का सेवन करना ही चाहिए| चौथे और पांचवें दिन 4 बार 25-25 ग्राम की मात्रा में लें| कुछ ही दिनों में पथरी गलकर मूत्र के रास्ते से निकल जाएगी|
  3. 10 ग्राम मूली के बीजों में 10-10 ग्राम गाजर व शलजम के बीज मिला दें| अब बीजों को पीस लें, महीन ना पीसें| इसका काढ़ा भी पथरी को भेद देगा| इन बीजों से सिर्फ एक कप का काढ़ा बनाएं| इसे सुबह नित्य नियम से पीए| एक महीने में इसका असर पथरी को गला कर बाहर का रास्ता दिखा देगा|
  4. प्याज के रस में चीनी डालकर दस-पंद्रह दिनों तक सेवन करें| पथरी कट कर बाहर निकल जाएगी|
  5. चौलाई की सब्जी नित्य खाने से पथरी भीतर-ही-भीतर गलकर साफ हो जाती है|
ज़रूर पढ़ें -   शुगर का इलाज के 7 घरेलू नुस्खे : Type 1 or 2 Daibetes Treatment in Hindi

पित की पथरी का उपचार हिंदी में

  1. 150 ग्राम कुल्थी कंकड़-पत्थर को रात में तीन किलों पानी में भिगो दें| कुल्थी को लगभग चार घंटे पकाएँ और जब एक किलो पानी रह जाय तब नीचे उतार लें| फिर तीस ग्राम से पचास ग्राम (पाचन शक्ति के अनुसार) देशी घी का उसमें छोंक लगाये| छोंक में थोड़ा सा सौंधा नमक, काली मिर्च, जीरा, हल्दी डाल सकते है| बस भोजन का भोजन और स्वादिष्ट सूप के साथ पथरी नाशक औषधि तैयार है|
  2. बादाम गिरी 6 नग, मुनक्का 6 नग, मगज खरबूजा 4 ग्राम, छोटी इलायची 2 नग, मिश्री 10 ग्राम-इन पांचों को ठंडाई की तरह बारीक घोंटकर आधा कप पानी में मिलाकर छानकर देने से पित्ताशय की पथरी में चमत्कारी लाभ मिलता है
  3. 50 ग्राम कुल्थी के बीज 150 ग्राम पानी में रात में भिगो दें| प्रात: उबालें| जब पानी 100 ग्राम रह जाये तब उतारकर छान लें और गुनगुना रोगी को पिला दें| सुबह-शाम इसी तरह पिलाने से कुछ ही दिनों में पथरी गलकर निकल जाती है|
  4. एक गिलास गरम पानी में 2 चम्मच शहद और 1 गिलास नाशपाती का जूस मिला कर पिए| इस घरेलू उपाय को दिन में 3 बार करे|
  5. 1 चुकंदर, 1 खीरा और 4 गाजर लें और उसका जूस बना लें| इसका रोजाना दिन में दो बार सेवन करने से Gall bladder Stone में राहत मिलती है|

पथरी का इलाज बाबा रामदेव पतंजलि : Pathri Ka ilaj Baba Ramdev Patanjali

  1. अगर आप पथरी का इलाज आयुर्वेदिक दवा से करना चाहते है और दवा लेना चाहते हो तो पास के baba ramdev पतंजलि स्टोर से ले सकते है यह दवा पथरी के दर्द हो कम करती है और किडनी स्टोन, गॉल ब्लैंडर स्टोन को बाहर निकालती है|
  2. पथरी के इलाज में कुल्थी की दाल का सेवन करने से बहुत फायदा होता है| 1 गिलास पानी में 1 या 2 चम्मच गुल्थी की दाल डालकर उबाल लें| जब पानी थोड़ा रह जाए तब पानी छान कर पी लें|
  3. बाबा रामदेव आयुर्वेदिक इलाज में दिव्य असमरिहार रस को पिए| यह दवा पथरी को तोड़ कर पेशाब के रास्ते से बाहर निकाल देती है|
  4. रोजाना कपालभाति प्राणायाम करने से पथरी के रोग से बचा जा सकता है और पथरी के लिए यह योगा काफी असरदार है|
  5. कोलेस्ट्रॉल बढने से पित्त की पथरी हो जाती है| कपालभाति योगा करने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है|
ज़रूर पढ़ें -   गंजे सिर में नए बाल उगाने के 5 उपाय : गंजेपन का इलाज

पथरी की दवा राजीव दीक्षित : Rajiv Dixit

  1. मुली के पत्तों का रस पथरी निकालने में बहुत ही कारगर है| मुली के पत्तों का रस रोजाना 2 से 3 बार 100 ग्राम की मात्रा में पीने से पथरी से राहत मिलती है| और रोजाना मुली खाने से आप को पथरी के रोगी नही होंगे|
  2. पथरी के इलाज में पाखनबेद यह पथरी की रामबाण दवा है जो पत्थरचट्टा के नाम से भी जाना जाता है पत्थरचट्टा के 10 पत्ते एक गिलास पानी में डाल कर उबाल लें और इसका काढ़ा बना लें| इस उपाय को सही तरीके से करने पर 10 से 15 में पथरी खत्म हो जाती है आप इसके पत्तों को चबा कर भी खा सकते है|

पथरी का होम्योपैथिक इलाज – Homeopathic Medicine Name

  1. गुर्दे में असहनीय दर्द जब बाई ओर हो और मूत्रद्धार तक फैले| बार-बार पेशाब की इच्छा हो| यह जरूरी नहीं कि दर्द बाई तरफ ही हो, दर्द दाई तरफ भी हो सकता है| तो बबैरिस -Q -5-10 बूंदें हर पन्द्रह मिनट के अन्तर से या आवश्यकतानुसार दें|
  2. पथरी के पुराने रोग में पेशाब गाढ़े लाल रंग का, पेट में वायु की अधिकता, दर्द दाई तरफ हो, पेशाब धीरे-धीरे आए और काफी ज़ोर लगाना पड़े या कभी-कभी पेशाब में रुकावट आ जाती हो तो लाइकोपोडियम-30 सुबह और शाम दें|
  3. मूत्र पथरी के दर्द में इतनी तकलीफ हों कि रोगी दर्द के मारे बुरी तरह छटपटाने लगे और पेशाब बूंद-बूंद करके आए तो पैरिअरा ब्रावा-30 दिन में तीन बार दें|

पथरी में क्या खाये क्या ना खाये

  1. गुर्दे की पथरी में नॉन वेज प्रोटीन का सेवन ना करे या फिर कम मात्रा में सेवन करे, इससे कैल्शियम स्टोन और यूरिक एसिड स्टोन होने की संभावना ज्यादा रहती है| मछ्ली और मांस में प्रोटीन और कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है इसलिए जो लोग पथरी रोग से पीड़ित है उन्हें इन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए|
  2. चुने वाले पान से परहेज करे| अगर आप चुने वाले पान खाते है तो इसे भी ना खाए|
  3. जिन सब्जी और फल में बीज ज्यादा हो उन्हें ज्यादा ना खाए|
  4. आप अपने आहार में विटामिन-सी ज्यादा से ज्यादा मात्रा में लें|
  5. राजमा, करेला, केला, गाजर, नारियल पानी और चना खाए यह सारी चीजे पथरी बढ़ने से रोकते है|

हेल्लों दोस्तों पथरी की रामबाण दवा आयुर्वेदिक इलाज और 5 आसान उपाय का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|