जल्दी प्रेग्नेंट होने के आसान उपाय, सही समय और तरीका

Pregnant Hone Ke Tips Hindi Me: गर्भ ठहरने पर मां बनने का अहसास सारे शरीर को रोमांचिक कर देता है| मन में उपूर्व उत्साह व उल्लास भर देता है| कदम जमीन पर नहीं पड़ते| मातृत्वहीन विवाहित जीवन भी किसी अभिशाप से कम नहीं है| छोटा नन्हा-मुन्ना बच्चा ईश्वर की एक अनमोल देन है| जहां पहली बार गर्भ ठहरनेकी खुशी अपरम्पार है, वहीं पैदा होती है मन में एक उलझन, असमंजन व पेरशानी| स्वयं को तो कुछ होता, पति भी अपनी ही तरह होते हैं, किसी भी समस्या का समाधान करने में असमर्थ मां व सांस-मां से बात करते शर्म आती है| ऐसे में पड़ोस की महिलाओं की बातें, सुझाव कि यह मत करो, वह मत करो, यह मत खाओ, वह मत खाओ, यहां न जाओ, वहां न जाओ| शिकायत हुई, तब उसने अस्पताल कि ओर रुख किया| परीक्षण के बाद ही पता चला कि वह इस रोग से पीड़ित है| यदि यह संक्रमण गर्भशय में पल रहे शिशु को हो जाता तब यह जानलेवा हो जाता है |

प्राय: यह देखा गया है कि महिलाओं द्धारा रक्तस्त्राव के समय जिन कपड़ों का इस्तेमाल किया जाता है, वे साफ नहीं होते और उनसे इंफेक्शन फैलने का खतरा बना रहता है| महिलाएं बाजार में मिलने वाले मंहगे सैनिटरी नैपकिनों कि जगह पुराने कपड़ों का इस्तेमाल करना पंसद करती हैं| यह ध्यान रखना चाहिए कि पुराने कपड़ों को अच्छी तरह से उबाल कर धूप में सुखा लिया जाए ताकि वे संक्रमणरहित हो जाएं|

गर्भवस्था का दूसरा चरण है बच्चे का जन्म| इस समय भी कुछ आवधानियां बरती जानी चाहिए| प्रसव के समय यह ध्यान रखना चाहिए कि बच्चा का जन्म किसी पर ही भरोसा किया जाना चाहिए| यह भी ध्यान रखना चाहिए कि उनके द्धारा प्रसव में प्रयोग किए जाने वाले उपकरण आदि गर्म पानी में उबाले गए हों| अकसर देखा गया है कि दाइयों द्धारा नवजात शिशु की नाल काटते वक्त इंफेक्शन हो जाता है और बच्चे की मृत्यु तक हो जाती है|

प्रसव के बाद भी महिलाओं को कई बातों का ध्यान रखना चाहिए| बच्चे के जन्म के बाद ही मां के स्तनों में दूध उतर आता है| कई परिवारों में अज्ञानता या अंधविश्वास के कारण मां द्धारा अपने बच्चे को प्रारंभिक दूध पिलाने से रोका जाता है| उनकी यह मान्यता होती है, कि यह दूध बच्चे के लिए लाभदायक नहीं है, जबकि यह विश्वास सर्वथा गलत है, ” मां को नवजात शिशु को फीडिंग कराने से रोकना नहीं चाहिए, क्यूंकि ब्रेस्ट फीडिंग शिशु का सर्वोत्तम आहार है| इसमें वे तत्व मौजूद होते हैं, जो कि नवजात शिशु को संक्रामक बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं |”

ज़रूर पढ़ें -   अपेंडिक्स का उपचार घरेलू तरीके और देसी नुस्खे से कैसे करे

मां को नहा-धोकर ही स्तनपान करना चाहिए क्योंकि पसीने के कारण बच्चे को स्तनपान द्धारा इंफेक्शन हो सकता है| कई महिलाएं टब-बाथ लेना पंसद करती हैं जबकि चलते पानी में स्नान करना ही लाभदायक है, क्यूंकि इससे शरीर के सभी अंगों की सफाई हो जाती है|

गर्भवस्था के दौरान शरीर के प्रत्येक अंग विशेषकर दांत, नाखून, जंघों एव बालों की सफाई का पूरा ध्यान देना चाहिए| दांतों के डॉक्टर को समय-समय पर दिखाते रहना चाहिए| यदि दांतों में किसी प्रकार की बीमारी है तो समय रहते उसका उपचार करके सेप्टीसीमिया बीमारी से बचा जा सकता है| कई महिलाओं को लम्बे नाखून रखने का शौक होता है, लेकिन वह उनकी सफाई की ओर ध्यान नहीं दे पाती| बड़े नाखूनों में गंदगी जमा होने से और खाना खाते वक्त उसमें जमा गंदगी मुंह में जाने से इंफेक्शन का खतरा बनारहता है| इसलिए जहां तक हो सके, नाखून छोटे ही रखे जाने चाहिए, ताकि गंदगी को जमा होने का मौका ही न मिले| यदि बड़े नाखून रखने हीं हों, तो उनकी सफाई का पूरा ध्यान दिया जाना चाहिए और डिटॉल एवं यूडी कोलोन की कुछ बूंदें पानी में मिलाकर स्नान करना चाहिए|

यदि गर्भवस्थ के दौरान इन छोटी-छोटी लेकिन महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान दिया जाए| तो न केवल स्वयं महिला बल्कि होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी यह लाभदायक रहेगा|

प्रेग्नेंट होने के टिप्स : Pregnant Hone ke Tips in Hindi

  1. पुरुष और महिला का मानसिक और शारीरिक दोनों तरीके से त्यार होना जरूरी है क्यूंकि प्रेग्नेंसी करने से पहले महिला के तनाव लेने का बुरा असर ovulation पड़ सकता है| महिला को गर्भ ठहरने में बहुत दिक्कत आती है|
  2. महिला के पीरियड होने के बाद उसे अपनी साफ-सफाई रखना चाहिए साथ-साथ प्रेग्नेंट होने के टिप्स अपनाने चाहिए संबंध बनाने पर इन्फेक्शन का खतरा होता है|
  3. महिला की गर्भधारण करने की सही उम्र 25 की होती है| अगर 25 की उम्र में pregnancy plan करे तो यह समय सबसे अच्छा है| क्यूंकि महिला की शारीरिक और मानसिक रूप से 25 की उम्र में बच्चा पैदा करने के लिए पूरी तरह से तयार होती है|महिला के गर्भधारण करने की सही उम्र 22 से 29 साल होती है |
  4. महिला की गर्भवती होने की सोच है तो पूरी तरह से मासिक धर्म बंद होने का इंतजार करे|
  5. पुरुष और महिला का शारीरिक मेल होने के बाद महिला को 10 से 15 मिनट तक पीठ के बल लेटे रहना चाहिए|
  6. महिला का वजन बच्चे पैदा करने के लिए संतुलित होना जरूरी है| वजन कम होना और जादा होना प्रेग्नेंट होने की संभावना को कम करता है| महिला का वजन जादा हो तो बॉडी में एस्ट्रोजन बनता है| जो ovulation में बाधा पैदा करता है| अनियिमित मासिक धर्म की समस्या उन लड़कियों में आती है जिनका शरीर ज्यादा पतला होता है|
  7. पीरियड्स की तारीख नोट करे अगर पीरियड्स की सही तारीख न पता हो तो ओव्यूलेशन का समय मालूम करना मुश्किल हो जाता है| कुछ महीने इंतजार करे या फिर अनियमित माहवारी का उपचार करे|
  8. महिला को अपनी डाइट में खाद्य पदार्थो और पुरुषों को विटामिन सी के आहार लेना चाहिए| जैसे प्रेग्नेंट होने के लिए क्या खाये, पुरुषों को अपनी डाइट में ऐसे फ्रूड्स खाना चाहिए जो शुक्राणु की संख्या बढ़ाने में मदद करे जैसे की जिंक और विटामिन सी, फोलिक एसिड| और महिला को अपने आहार में पोषण तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थो का सेवन करना चाहिए|
  9. पुरुषों को अपने गुप्तांग को गर्मी से दूर रखना चाहिए जैसे की गर्म पानी से न धोना और लैपटांप न रखना| इसका असर शुक्राणुओं पीआर पड़ता है|
  10. हर तरह के नशे से बचे क्यूंकि इससे प्रजनन क्षमता कमजोर होती है| जिससे प्रेग्नेंसी में मुश्किलें आती है|
  11. इस लेख में बताये गये प्रेग्नेंट होने के तरीके जो सिर्फ जानकारी मात्र है| कोई भी उपाय करने से पहले डॉक्टर से मिले और इस बारे में पूरी जानकारी ले और अपने बड़े बुजुर्गों से इस बारे में विस्तार से चर्चा करे|
ज़रूर पढ़ें -   पिंपल/मुंहासे हटाने के 10 घरेलू उपाय

पीरियड्स के बाद प्रेग्नेंट होने का सही समय कब होता है

  • प्रेग्नेंट होने का सही समय पीरियड ख़तम होने के बाद मिलाप करना प्रेग्नेंसी के लिए अच्छा समय है| प्रेग्नेंट होने की संभावना तब ज्यादा होती है जब पीरियड्स 7 दिन तक चलते है और उसके तुरन्त बाद संबंध बनते हो| शारीरिक मेल 7 वें दिन जरूर करना चाहिए क्यूंकि रक्त का स्त्राव पीरियड्स के 6 दिन बाद बंद हो जाता है|
  • इसके 11 दिन बाद आप फिर से प्रयास कर सकते है क्यूंकि ओव्यूलेशन टाइम शुरू हो जाता है|

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए

  1. प्रेग्नेंट के तरीके अपनाने से पहले महिला और पुरुष दोनों को एक बार चेकउप करवाना चाहिए किसी भी प्रकार की बीमारी न हो|
  2. अगर आप बहुत टाइम से प्रयास कर रहे है और गर्भधारण नहीं कर पा रेह है तो डॉक्टर से मिलकर चर्चा करे |
  3. ब्लीडिंग की प्राब्लम संबंध बनाने के बाद भी हो रही है| तो डॉक्टर से इस बारे में बात करे|
  4. अगर महिला की उम्र ज्यादा है और गर्भवती होने में मुश्किल आती है| ऐसे मे डॉक्टर की सलाह जाने की गर्भधारण करसे करे|

दोस्तों प्रेग्नेंट होने के आसान उपाय, लक्षण और सही तरीका पूरी जानकारी Pregnant Hone Ke upay Tarike aur Tips in Hindi का यह पोस्ट आप को कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास पिरिड्स के बाद जल्दी प्रेग्नेंट (गर्भवती) होने के लिए क्या करे, गर्भघारण करने का उपाय सही तरीका टाइम दिन से जुड़े सुझाव है तो हमारे साथ सांझा करे |

Leave a Comment