राजीव दीक्षित के घरेलू नुस्खे और देसी आयुर्वेदिक उपचार इन हिन्दी

Rajiv Dixit ke nuskhe in hindi : जैसी की आप सभी जानते है की जब बात आयुर्वेदिक नुस्खे और देसी इलाज की हो तो राजीव दीक्षित जी का नाम जरूर लिया जाता है| राजीव दीक्षित जी ने आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट के बारे में लोगों को बता कर जागरूक करने में अहम योगदान दिया है|

राजीव दीक्षित के घरेलू नुस्खे और देसी आयुर्वेदिक उपचार इन हिन्दी

उन्होने लोगों को इस बात से रूबरू कराया की कैसे लोग पुराने जमाने में आयुर्वेदिक तरीको से ही हर बीमारी का इलाज कर लेते थे| ऐसा करने के लिए लोग आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का इस्तेमाल करके दवाइयां तैयार कर लेते थे| राजीव दीक्षित (Rajiv Dixit) को अन्य शब्दों में आयुर्वेदिक का राजा भी कहा जाता है|

राजीव दीक्षित ने लोगों को बताया की कैसे बिना डॉक्टर और बिना दवा के घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार से घर पर रोगों का उपचार करे| जोड़ों में दर्द, मोटापा, ब्लड प्रेशर, शुगर, बवासीर और अन्य बीमारियों के इलाज और उनसे बचने के उपाय के लिए राजीव दीक्षित ने बहुत रामबाण नुस्खे बनाये है| आइये जाने, rajiv dixit ke gharelu nuskhe in hindi. 

भोजन करने का सही तरीका

अगर हम खाना सही समय और सही तरीके से खाए तो कई रोगों से बचा जा सकता है| इसका सबसे बड़ा फायदा ये है की शरीर का पाचन तंत्र अच्छा रहता है और पेट के कोई भी रोग नहीं होते|

  1. सुबह को नाश्ता पेट भर कर करना करे और फिर फलों का जूस सेवन करना करे|
  2. दोपहर का भोजन सुबह के नाश्ते से हल्का करे और खाना खाने के बाद लस्सी का सेवन करे|
  3. रात को भोजन समय पर करे और रात को खाना खाते ही सो जाने से खाना ठीक से नही पचता है| रात को सोने से 2 या 3 घंटे पहले भोजन कर ले और रात को भोजन हल्का करें|

राजीव दीक्षित के नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार

Rajiv Dixit Ke Gharelu Nuskhe in Hindi

  1. तीव्र उदर-शूल में भुनी हुई हींग एक भाग, नमक एक भाग, खाने का सोडा दो भाग खौलते पानी में मिलाएं| ठंडा होने पर पीने से उदर-शूल तत्काल जाता रहेगा|
  2. बवासीर का इलाज करने के लिए राजीव दीक्षित मूली का रस पिने की सलाह देते है| खाना खाने के बाद 1 कप मूली का रस सेवन करने से piles से छुटकारा मिलता है| इस घरेलू नुस्खे को सुबह और दोपहर में करे रात को ना करे| इस घरेलू नुस्खे से भगंदर, फिसर, बवासीर सब में आराम मिलता है|
  3. यदि कर्ण-शूल हो तो सरसों के तेल में थोड़ा लहसुन डालकर गर्म करें| ठंडा कर ले और कान में डालें| तुरंत लाभ होगा|
  4. सिर-शूल में गोदन्ती भस्म सात सौ मिलीलीटर, शुद्ध घी या मधु में मिलाकर प्रतिदिन चार बार खाएं, लाभ होता है|
  5. ह्रदय-शूल की दशा में अर्जुन की छाल को गाय के घी में मिलाकर पीने से यह बीमारी समूल चली जाती है|
  6. रक्तस्त्राव में शुद्ध फिटकरी चूर्ण रुई से लगा दें| रक्त-प्रवाह खत्म हो जाता है|
  7. अग्नि शूल में अलसी का तेल लगाएं| तुरंत लाभ होता है|
  8. दांतों में खून आता हो तो आम के पत्तों का मंजन करे|
  9. सौंठ व गुड़ खाने से जुकाम ठीक हो जाता है|
  10. शहद में तुलसी के पत्तों का रस व थोड़ा सा कपूर मिलाकर खाने से कफ ठीक होता है|
  11. मधुमक्खी के काटने पर सेंधा नमक मल दें, दर्द जाता रहेगा|
  12. खीरे के रस में जैतुन का तेल मिलाकर मुंह पर लगाने से रंग में निखार आ जाता है|
  13. लहसुन व काला नमक पीसकर खाने से वायु रोग ठीक होता है|
  14. शुद्ध शहद को आँखों में लगाने से ज्योति तेज होती है|
  15. गठिया रोग में आंवले के रस में घी व चीनी मिलाकर पीएं, फायदा अवश्य होगा|
  16. Rajiv dixit ke nuskhe में पान में खाने वाला चूना अन्य रोगों के उपचार में बहुत फायदेमंद होता है| चने के दाने के बराबर चूना जूस, दाल या दही के साथ सेवन करे| अनेकों रोगों से राहत पाने के लिए चूना का सेवन बहुत लाभदायक होता है जैसे की दिमाग तेज करने, पीरियड्स की समस्या, कमर दर्द, नपुंसकता, पीलिया, कंधे का दर्द, घुटनों और जोड़ों का दर्द आदि| पथरी के रोगी इस उपाय को ना करे|
ज़रूर पढ़ें -   जल्दी मोटा होने के लिए 3 आयुर्वेदिक दवा और उपाय इन हिंदी

अच्छी सेहत पाने के लिए राजीव दीक्षित के उपाय

  • अगर आप एल्युमिनियम के बर्तन में खाना बनाते है तो इसकी बजाय मिट्टी के बर्तन का प्रयोग करे| क्यूंकि एल्युमिनियम के बर्तन इस्तेमाल करने से खतरनाक रोग होने का ज्यादा खतरा रहता है जैसे की शुगर, वात रोग, टी बी और अस्थमा आदि|
  • राजीव दीक्षित जी के आयुर्वेद के तरीके में चीनी जहर के समान है| चीनी की जगह गुड़ का सेवन अच्छा होता है| इसलिए खाना खाने के बाद एक छोटी गुड़ की डेली खाने से पाचन शक्ति अच्छी रहती है|
  • सफ़ेद वाले नमक की जगह सेंधा नमक, काला नमक या फिर डेली वाला नमक इस्तेमाल करना चाहिए|
  • भोजन खड़े हो कर या फिर कुर्सी पर बैठ कर कभी भी ना करे| भोजन हमेशा जमीन पर चौकड़ी मारकर करे|
  • खाना पकाते समय हमेशा कच्ची घनी का इस्तेमाल करे| रिफाइंड ऑइल से खाना कभी ना बनाये क्यूंकि इससे कैंसर, ब्लड प्रेशर और ह्रदय के रोग होते है|
  • अगर खाना 24 घंटे में एक बार खाए तो यह सही से पचता है और पाचन शक्ति भी कम नहीं होती लेकिन हमारी जीवनशैली के हिसाब से 2 बार भोज अवश्य करे|
  • शराब, नशीली पदार्थ और धूम्रपान से दूर रहे| तंबाकू की जगह आप चूना खाए| शरीर के लिए चूना बहुत लाभदायक होता है|
  • आप को जब भी रोटी बनानी हो तब ताजी आटा गूँदे और आटा गूँद के फ्रीज़ में ना रखे| महीने भर का आटा एक साथ ना पिसवाये| क्यूंकि 15 दिन से जादा पुराने आटे में पोषक तत्व खत्म हो जाते है|
ज़रूर पढ़ें -   योगा करने का सही तरीका और बाबा रामदेव के 10 जरूरी योगा नियम

पानी पीने के लिए जरूरी टिप्स

  • जब हम कही बाहर से घर पर आते है तो हमारी सांस तेज होती है और शरीर भी गर्म होता है ऐसे में पानी नहीं पीना चाहिए| कम से कम 10 से 15 रुक कर शरीर का तापमान नार्मल होने पर पानी पिए|
  • सुबह को सबसे पहले उठते ही 1 या 2 गिलास पानी पिए| पानी पीने के बाद ही ब्रश करे|
  • रोजाना दिन में 3 से 4 लिटर पानी जरूर पिए क्यूंकि इससे मोटापा, पथरी और किडनी के रोगों से बचा जा सकता है|
  • खड़े हो कर पानी पीने से जोड़ों और घुटनों में दर्द की शिकायत हो जाती है इसलिए पानी हमेशा पानी बैठ कर पिए और घूंट-घूंट करके पिए|
  • भोजन करने से आधा या एक घंटा पहले पानी पिए इससे भोजन करते समय प्यास नहीं लगेगी|
  • खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद पानी ना पिए| खाना खाने के आधा घंटा बाद ही पानी पिए|

खराब पेट का इलाज के नुस्खे इन हिन्दी

  • आधे कप कच्चे दूध में नींबू निचोड़ कर पीने से पतले दस्त आना बन्द हो जाते है|
  • त्रिफला चूर्ण पेट साफ करने के लिए बहुत कारगर होता है| रात को सोने से पहले 1 गिलास पानी के साथ 1 चम्मच त्रिफला चूर्ण सेवन करे|
  • गरम पानी के साथ अजवाइन और काला नमक समान मात्रा में सेवन करे इससे पेट का अफारा और पेट की गैस ठीक होने लगेगी|
  • कब्ज की आयुर्वेदिक इलाज में अजवाइन बहुत कारगर है| कब्ज का घरेलू इलाज करने के लिए गरम पानी के साथ अजवाइन को गुड़ के साथ सेवन करें| रात को सोने से पहले इस घरेलू उपाय को करे अगली सुबह आप का पेट साफ हो जायेगा|
  • अगर आप को बार-बार losse motion आते हो और हर 5 मिनट के बाद टॉयलेट जाना पड़ता हो तो इसके इलाज के लिए राजीव दीक्षित जी जीरा का रामबाण दवा बताते है| loose motion ठीक करने के लिए आधा चम्मच जीरा चबा-चबा कर सेवन करे और उपर से आधा गिलास गुनगुने पानी पिए|
ज़रूर पढ़ें -   सिर दर्द से जल्दी छुटकारा पाने के लिए 10 घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे

हेल्लों दोस्तों राजीव दीक्षित के घरेलू नुस्खे और देसी आयुर्वेदिक उपचार इन हिन्दी का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|